नई दिल्ली । भारत के उदयीमान प्रतिभासंपन्न बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन कोरोना के चलते अपनी लय खो जाने के कारण निराशा में थे पर वह 13 अक्टूबर से डेनमार्क ओपन के साथ बहाल हो रहे अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन में पूरे दमखम के साथ खेलने का इंतजार कर रहे है। इस 19 साल के खिलाड़ी के लिए 2019 शानदार रहा था जब उन्होंने बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर 100 के दो खिताब सहित पांच टूर्नामेंटों में जीत का परचम लहराया था। इस शानदार प्रदर्शन से वह विश्व रैंकिंग में 32वें स्थान पर पहुंच गये थे लेकिन फिर महामारी के कारण मार्च में खेल गतिविधियां रूक गयी थी। विश्व रैंकिंग में 27वें स्थान पर पहुंच चुके लक्ष्य ने कहा, ‘यह निराशाजनक रहा क्योंकि वायरस के कारण कोई टूर्नामेंट नहीं हो रहा था। यह हालांकि सभी के लिए एक जैसा है। अब डेनमार्क ओपन हो रहा है ऐसे में मुझे उम्मीद है कि हमें खेलने को मिलेगा।’
उत्तराखंड के इस खिलाड़ी ने बैडमिंटन एशिया टीम चैम्पियनशिप में एशियाई खेलों के स्वर्ण पदकधारी जोनाथन क्रिस्टी को भी हराया था और उन्होंने ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप में पूर्व विश्व चैम्पियन विक्टर एक्सलसेन को कड़ी टक्कर दी थी। लक्ष्य सात महीने बाद डेनमार्क ओपन से वापसी के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे। उन्होंने कहा, ‘मुझे खेल के लिए सामान्य होने में दो सप्ताह लग गये। अब मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने और जो भी होगा उसका सामना करने के लिए तैयार हूं। यह सभी के लिए पहली प्रतियोगिता है, इसलिए मैं कुछ भी उम्मीद नहीं कर सकता हूं।’ फिटनेस के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘मैंने इस मामले में बहुत सुधार किया है और मैं पिछले साल की तुलना में बेहतर स्थिति में हूं। मैंने 2019 में कई टूर्नामेंटों में भाग लिया था, ऐसे में यह उसे बरकरार रखने और खेल जारी रखने के बारे में था।’
उन्होंने कहा, ‘मुझे अपने खेल के बारे मे तभी पता चलेगा जब टूर्नामेंट शुरू होगा। यहां से मिली प्रतिक्रिया से मैं पिछले साल के अपने स्तर से तुलना कर सकूंगा। इसलिए मैं अपने खेल का परीक्षण करने के लिए डेनमार्क ओपन का इंतजार कर रहा हूं।’ लक्ष्य अपने अभियान की शुरूआत फ्रांस के क्रिटो पोपोव के खिलाफ करेंगे, जिन्होंने पिछले साल विश्व जूनियर चैम्पियनशिप में अपने देश के लिए पहला पदक जीता था। लक्ष्य ने कहा, ‘यह अच्छा ड्रा है लेकिन कई शीर्ष खिलाड़ी नहीं खेल रहे है। मुझे पोपोव के खिलाफ खेलने का अनुभव है। उसके खिलाफ मेरा रिकार्ड 2-1 का है। अभी मै सिर्फ एक मैच के बारे में सोच रहा है। लक्ष्य इसके बाद सारलोरलक्स ओपन में भी भाग लेंगे जो जर्मनी में 27 अक्टूबर से एक नवंबर तक खेला जाएगा। वह इस टूर्नामेंट के गत विजेता है। उन्होंने कहा, ‘मैं सारलोरलक्स में पहली बार सुपर 100 खिताब का बचाव करूंगा। इसलिए मैं बहुत उत्साहित हूं। इसमें कुछ अन्य भारतीय खिलाड़ी भी भाग ले रहे हैं। टूर्नामेंट का इंतजार कर रहा हूं।’