पेरिस । कोरोना महामारी की मार से फ्रेंच ओपन टेनिस भी नहीं बच पाया है। टूर्नामेंट के आयोजकों के अनुसार इस साल फ्रेंच ओपन से उन्हें राजस्व लाभ नहीं हुआ है। इसका कारण यह रहा कि टूर्नामेंट को इसके निर्धारित समय से आगे बढ़ाना पड़ा और दर्शकों के नहीं होने से टिकटों से कोई कमाई नहीं हुई। अगले साल आयोजकों की योजना इसे समय पर मई-जून में कराने की ही है हालांकि  उन्होंने माना है कि महामारी के कारण ऐसा संभव हो पायगा। इसके पक्के तौर पर अभी नहीं कहा जा सकता है। फ्रेंच टेनिस महासंघ अध्यक्ष बर्नार्ड गुईडिसेली ने कहा, ‘‘हम भविष्य के बारे में नहीं बता सकते। हम कुछ नहीं कह सकते।'' आयोजकों ने कहा कि इस साल महामारी के बीच सितंबर-अक्टूबर में टूर्नामेंट कराने से केवल 1000 दर्शकों को ही प्रत्येक दिन स्टेडियम में प्रवेश करने की अनुमति दी गयी जो टिकटों की बिक्री का महज तीन प्रतिशत है जिससे टूर्नामेंट के राजस्व में 80 से 100 मिलियन यूरो का नुकसान हुआ और उसे सिर्फ उतनी ही कमाई हुई जो इसके आयोजन का खर्चा था।