रायपुर। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री  टी.एस. सिंहदेव ने विश्व शौचालय दिवस के अवसर पर अपने निवास कार्यालय से वर्चुअल माध्यम से स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत स्वच्छता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों-संस्थाओं को अलग-अलग 15 श्रेणियों में लगभग चार करोड़ 35 लाख रूपए की नकद राशि, प्रशस्ति-पत्र और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।  सिंहदेव ने वर्चुअल माध्यम से स्वच्छता के क्षेत्र में कार्य करने वाले और पुरस्कार जीतने वाले प्रतिभागियों से आत्मीय चर्चा की और उनका उत्साहवर्धन करते हुए इस उपलब्धि को आगे भी कायम रखने और इससे भी बेहतर कार्य करने की अपील की। जिला ओडीएफ स्थायित्व पुरस्कार के अंतर्गत प्रदेश में सरगुजा जिला को प्रथम पुरस्कार के रूप में एक करोड़ रूपए, प्रशस्ति पत्र और ट्रॉफी प्रदान किया गया। इसी प्रकार विकासखण्ड ओडीएफ स्थायित्व पुरस्कार अंतर्गत जिला सरगुजा के विकासखण्ड लुण्ड्रा, जिला दुर्ग के विकासखण्ड पाटन और जिला कोण्डागांव के विकासखण्ड माकड़ी को पचास-पचास लाख रूपए का पुरस्कार मिला है। ग्राम पंचायत ओडीएफ स्थायित्व पुरस्कार अंतर्गत पांच ग्राम पंचायतों इनमें दुर्ग जिले के ग्राम पंचायत रिसामा, सरगुजा जिले के ग्राम पंचायत फहपुटरा, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के ग्राम पंचायत ढेबी, रायपुर जिले के ग्राम पंचायत टेमरी और गरियाबंद जिले के ग्राम पंचायत फुलकर्रा को बीस-बीस लाख रूपए का पुरस्कार प्राप्त हुआ है।
    मंत्री  सिंहदेव ने आज राज्य स्वच्छता पुरस्कार 2020 के अंतर्गत व्यक्तिगत श्रेणी में सेग्रिगेशन शेड के उत्कृष्ट ड्राईंग डिजाईन के लिए सरगुजा जिले के  मुजफ्फर हुसैन को प्रथम पुरस्कार के रूप में 21 हजार रूपए, कांकेर जिले के  धर्मराज दर्रे को द्वितीय पुरस्कार के रूप में 11 हजार रूपए और सरगुजा जिले के  अविनाश राज सिन्हा को तृतीय पुरस्कार के रूप में 5 हजार रूपए नकद प्रदान किया। इसी तरह गांव को कैसे स्वच्छ रखा जाए बेस्ट वर्किंग प्लान के तहत बलौदाबाजार जिले के  जगन्नाथ देवांगन को प्रथम पुरस्कार, सरगुजा जिले के  अंचल कुमार ओझा को द्वितीय पुरस्कार और रायपुर जिले के  यशवंत कुमार साहू को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। नवाचार संबंधी सुझाव के तहत सरगुजा जिले के डॉ. प्रशांत कुमार शर्मा को प्रथम पुरस्कार, सूरजपुर की सुश्री रीनू दुबे को द्वितीय पुरस्कार और सरगुजा जिले के ही  अंचल कुमार ओझा को तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
    समुदायिक शौचालय के उत्कृष्ट ड्राईंग डिजाईन प्रतियोगिता (5.50 लाख के मॉडल) के तहत धमतरी जिले के  मोहन नेताम को एक लाख 75 हजार रूपए और प्रशस्ति पत्र, समुदायिक शौचालय के उत्कृष्ट ड्राईंग डिजाईन प्रतियोगिता (4.50 लाख के मॉडल) के तहत रायपुर के  सजल तिवारी को एक लाख 25 हजार नकद और प्रशस्ति पत्र, समुदायिक शौचालय के उत्कृष्ट ड्राईंग डिजाईन प्रतियोगिता (3.50 लाख के मॉडल) के तहत रायपुर के  गौरव रेड्डी को एक लाख रूपए के पुरस्कार और प्रशस्ति से सम्मानित किया गया। इसी प्रकार स्वच्छ सुन्दर सामुदायिक शौचालय पुरस्कार के तहत जिला बालोद के ग्राम पंचायत धनगांव को प्रथम पुरस्कार, रायपुर जिले के ग्राम पंचायत टेमरी को द्वितीय और महासमुन्द जिले के ग्राम पंचायत टेमरी को तृतीय पुरस्कार मिला है। एमएचएम (महावारी स्वच्छता प्रबंधन) युक्त ग्राम पंचायत पुरस्कार के तहत बालोद जिले के ग्राम पंचायत घोटिया को प्रथम पुरस्कार, बलौदाबाजार के ग्राम पंचायत भरसेली को द्वितीय पुरस्कार और दुर्ग जिले के ग्राम पंचायत तरीघाट को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। उत्कृष्ट  सेग्रिगेशन शेड पुरस्कार के तहत दुर्ग जिले के ग्राम पंचायत पतोरा को प्रथम पुरस्कार, जशपुर जिले के ग्राम पंचायत दुलदुला को द्वितीय पुरस्कार और कोरिया जिले के ग्राम पंचायत सोनहत तथा राजनांदगांव के ग्राम पंचायत लाल बहादुर नगर को तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
    मंत्री  सिंहदेव ने वर्चुअल समारोह में इसी प्रकार सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त ग्राम पंचायत पुरस्कार के तहत जशपुर के ग्राम पंचायत बोकी को प्रथम पुरस्कार, सरगुजा के ग्राम पंचायत बटवाही को द्वितीय और कोण्डागांव जिले के ग्राम पंचायत तितरवंड को तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया। उत्कृष्ट बायोगैस संयंत्र पुरस्कार के तहत बस्तर जिले के ग्राम पंचायत भोण्ड को प्रथम, सूरजपुर के ग्राम पंचायत केशवनगर को द्वितीय और सरगुजा जिले के ग्राम पंचायत पुरकेला को तृतीय पुरस्कार हासिल हुआ है। उत्कृष्ट स्वच्छाग्रही समूह पुरस्कार के तहत राजनांदगांव जिले के ग्राम पंचायत कुतुल बोड भाठागांव के प्रगति स्व-सहायता समूह हो प्रथम, दुर्ग जिले के ग्राम पंचायत पुरई के लक्ष्मी स्व-सहायता समूह को द्वितीय और कोण्डागांव के ग्राम पंचायत माकड़ी के स्वच्छता महिला स्व-सहायता समूह को तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। दिव्यांग एवं तृतीय लिंग  हेतु सुगम्य सामुदायिक शौचालय पुरस्कार के तहत रायगढ़ जिले के ग्राम पंचायत छाल के सरपंच री अनिरूद्ध सिंह राठिया ने 2.50 लाख रूपए का पुरस्कार वर्चअल माध्यम से यह ग्रहण किया।    इस मौके पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्री गौरव द्विवेदी, स्वच्छ भारत मिशन, ग्रामीण के प्रबंध संचालक श्री धर्मेश साहू, यूनिसेफ के छत्तीसगढ़ स्टेट हेड  जॉप जकारिया, श्रीमती श्वेता पटनायक सहित श्रीमती अभिलाषा आनंद,  पुरूषोत्तम पंडा, श्रीमती मधुरिमा मसीह तथा विभिन्न जिलों के जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी और जन प्रतिनिधि एवं प्रतिभागी वर्चुअल माध्यम से जुड़े थे।