भोपाल :  भारत निर्वाचन आयोग द्वारा फोटो निर्वाचक नामावली का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2021 के प्रारूप का प्रकाशन कर दिया गया है। इस संबंध में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती वीरा राणा की अध्यक्षता में मध्यप्रदेश निर्वाचन सदन, अरेरा हिल्स में मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों की बैठक आयोजित हुई। उन्होंने कहा कि निर्धारित कार्यक्रम के तहत आज 25 नवम्बर को मतदाता सूची के प्रारूप प्रकाशन के साथ ही दावे-आपत्ति लिये जाने का कार्य शुरू हो गया है। दावे-आपत्तियाँ 24 दिसम्बर] 2020 तक ली जायेंगी। दावे-आपत्तियों का निराकरण 7 जनवरी, 2021 तक किया जायेगा। विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के तहत दावे-आपत्तियों के लिये ऑनलाइन सुविधा भी दी गई है, जो भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट https://voterportal.eci.gov.in/पर उपलब्ध है। डाटावेस अपडेशन, फोटोग्राफ, कंट्रोल टेबल अपडेशन एवं पूरक सूची की तैयारी एवं मुद्रण का कार्य 14 जनवरी] 2021 तक किया जायेगा। इसके बाद 15 जनवरी, 2021 को मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन किया जायेगा।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती राणा ने मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों से समस्त मतदान केन्द्रों के लिये बूथ लेवल एजेण्ट नियुक्त करने की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि समस्त बूथ लेवल एजेण्टों की जानकारी सबंधित जिलों में उपलब्ध करायें। प्रारूप प्रकाशन के उपरांत प्रदाय की जा रही मतदाता सूची में यदि कोई संशोधन की आवश्यकता हो, तो संबंधित जिला निर्वाचन अधिकारी/निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के ध्यान में लायें।

बैठक में बताया गया कि वर्तमान प्रारूप निर्वाचक नामावली में 5 करोड़ 22 लाख 95 हजार 854 मतदाता है, जिसमें 2 करोड़ 71 लाख 28 हजार 497 पुरूष मतदाता, 2 करोड़ 50 लाख 90 हजार 899 महिला मतदाता एवं 1279 तृतीय लिंग मतदाता दर्ज हैं। प्रारूप प्रकाशन में सेवा निर्वाचकों की संख्या 75 हजार 179 हैं, जिसमें 73 हजार 62 पुरूष एवं 2 हजार 117 महिला मतदाता हैं। मतदान केन्द्रों के युक्तियुक्तकरण के दौरान 34 नवीन मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इस प्रकार वर्तमान में कुल मतदान केन्द्र 64 हजार 592 हो गए हैं।

बैठक में अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री अरुण कुमार तोमर, संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री धरणेन्द्र कुमार जैन एवं उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री प्रमोद कुमार शुक्ला द्वारा भी आवश्यक जानकारी दी गई। बैठक में उपस्थित मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों ने अपने सुझाव रखे।